Close

District Road Safety Committee Meeting at Haldwani

Publish Date : 31/05/2018
Road Safety
हल्द्वानी 29 मई 2018 (सूचना)-  वाहन चलाते समय मोबाइल पर बात करने के अलावा ईयर फोन का इस्तेमाल करने वाले लोगो के ड्राइविंग लाइसैन्स निरस्त किये जायेगे, तथा वैधानिक कार्यवाही भी अमल मे लाई जायेगी। यह निर्देश जिलाधिकारी विनोद कुमार सुमन ने मंगलवार को अपने शिविर कार्यालय में आयोजित जिला सडक सुरक्षा समिति की बैठक मे अधिकारियों को दिये। उन्होने कहा कि बिना बेल्ट के वाहन चलाना, शराब पीकर वाहन चलाना, ईयरफोन लगाकर वाहन चलाना तथा वाहन चलाते समय मोबाइल पर बात करने से वाहन दुर्घटनाओं मे आशातीत वृद्वि हुई है इस प्रकार का कृत्य एक फैशन बनता जा रहा है जिस पर सख्त लगाम लगाने की जरूरत है। उन्होने परिवहन तथा पुलिस महकमे के अधिकारियो से कहा कि वे ऐसा कृत्य करने वालों के खिलाफ कडी कार्यवाही अमल मे लायें तथा उनका मौेके पर ही ड्राइविंग लाईसेन्स निरस्त कर दिये जाए। जिलाधिकारी ने बताया कि पिछले दो माह मे परिवहन विभाग ने ऐसा कृत्य करने वाले 54 लोगों तथा पुलिस विभाग ने 220 लोगो का कुल 274 लोगों का चालान किया, इनके लाईसेन्स निरस्त करने की कार्यवाही गतिमान है। जिलाधिकारी ने अधिकारियों से कहा कि यह कार्यवाही संतोषजनक नही है। अगले दो माह मे लगभग 1000 लोगो के चालान इस कृत्य के लिए किये जाएं। उन्होने कहा कि हमारा उददेश्य है कि वाहन चलाते समय केाई दुर्घटना ना हो और लोेगो का जीवन सुरक्षित हो।
जिलाधिकारी श्री सुमन ने कहा कि ऐसा संज्ञान मे आया है कि नो पार्किग जोन गलियों, सार्वजनिक स्थानों पर काफी लम्बे अर्सो से लोग वाहन खडे करके नदारत है। इससे यातायात प्रभावित रहता है और दुर्घटनायें होती है। सबसे ज्यादा वाहन ठंडी सडक और उसकी गलियों मे पिछले तीन-चार सालों से लावारिस हालातों खडे है। उन्होने सभी उपजिलाधिकारियों एवं पुलिस महकमे के अधिकारी ऐसे वाहनो को हटाये जाने की पहले मुनादी करा दें और उसके बाद एक सप्ताह के भीतर ऐसे वाहनों को सडकों से हटाकर सीज करें और सडकों को खाली करायें। जिलाधिकारी ने बैठक मे कहा कि उनके संज्ञान मे आया है कि बिना अनुमति के मोबाइल टावर स्थापित किये जा रहे है जो कि गैरकानूनी है बिना प्रशासन की अनुमति के लगाये गये मोबाइल टावरो को तत्काल सीज करने की कार्यवाही की जाए।
जिलाधिकारी ने कहा कि दुर्घटनाओं में बेतरतीब लगे होर्डिग्स और फ्लैक्सी तथा अनाधिकृत तरीके से कब्जा किये हुये फुटपाथ एक बहुत बडा कारण है। उन्होने नगर निगम के उप मुख्य नगर अधिकारी बृजेन्द्र चैहान को आदेशित किया है कि वे तत्काल महानगर के चिन्हित वैंडर जोन मे हरे रंग से पट्टी लगाकर बोर्ड लगायें, तथा सुनिश्चित करें कि बैंडर जोन मे ही फुटपाथ विक्रेता अपना कारोबार करें। उन्होने सिटी मजिस्टेट पंकज उपाध्याय से कहा कि पर्यटक सीजन पूरे जोर पर है, देश के कोने-कोने से वाहनो का आवागमन नैनीताल को हो रहा है अतः दुर्घटनाओ को रोकने के तत्काल अभियान चलाकर सारे फुटपाथ खाली कराये तथा अनाधिकृत लम्बे समय से पार्क किये हुये वाहन हटाये जाने की कार्यवाही सुनिश्चित करें।
श्री सुमन ने कहा कि जब कोई बडी सडक दुर्घटना हो जाती है तो लोग तमाशबीन बनकर तमाशा देखते है और वीडियो फिल्म बनाते है जो कि मानवीय दृष्टिकोण से उचित नही है। अतः हमें चाहिए कि हम घायलो को तत्काल नजदीक के अस्पताल मे पहुचायें। उन्होने उपजिलाधिकारियो को निर्देश दिये कि वह अपने क्षेत्र मे राजकीय एंव निजी चिकित्सालयो की बैठक कर यह जानकारी दें कि दुर्घटना मे घायल लोगो का पूरे मनोयोग से ईलाज करें तथा उसका जीवन बचाने का भरसक प्रयास करें।  जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद के सडको में जहां-जहां दुर्घटना सम्भावित क्षेत्र है उन्हे चिन्हित करे तथा उन जगहों पर क्रैश बैरियर, साईनेज, स्पीड ब्रेकर, रिफ्लेक्टर स्टीकर आदि लगाना सुनिश्चित करें ताकि दुर्घटनाओं पर लगाम लग सके।
जिलाधिकारी नेे कहा कि सडकों पर दुकानदारों द्वारा भवन सामग्री रखे जाने को कड़ी नाराजगी व्यक्त की। उन्होने कहा कि इससे जहां दुर्घटनायें होती है वही जाम की स्थित पैदा होती है। उन्होने कहा सडक किनारे निर्माण सामग्री पायी जाती है तो अर्थदण्ड के साथ ही वैधानिक कार्यवाही भी की जायेगी। उन्होने कहा सडक सुरक्षा का प्रचार प्रसार सिनेमाघरों, केबिल टीवी एवं स्कूलांे में सेमिनार लगाकर इसकी जानकारियां दी जाएं ताकि अधिक से अधिक लोग वाहन चलाते समय ट्रैफिक के नियमोंं की जानकारी ले और जिससे दुर्घटनाओं पर लगाम लगाई जा सके। श्री सुमन ने निर्देश दिये कि वाहनो की गति पर लगाम लगाने के लिए स्कूल, अस्पताल, हाटबाजार आदि आवश्यक स्थानों मे स्पीड ब्रेकर  बनाने के निर्देश दिये ताकि दुर्घटनाओ से बचा जा सके। उन्होने कहा दुपहिया वाहन चलाते समय हैलमेट अनिवार्य रूप से पहनना सुनिश्चित कराया जाए, बिना हैलमेट वाहन चलाने वाले के खिलाफ चालान के साथ ही दण्डात्मक कार्यवाही सुनिश्चित की जाए।
बैठक मे  संयुक्त मजिस्टेट अभिषेक रूहेला, उप जिलाधिकारी प्रमोद कुमार, एपी बाजपेयी, परितोष वर्मा, अधि. अभि लोनिवि रणजीत सिह रावत, यूसी पंत, सहायक परिवहन अधिकारी विमल पाण्डे, डा0 गुरदेव सिह, असित कुमार झा, अग्नि शमन अधिकारी जगदीश सिह, केसी उपाध्याय, एलडी उपाध्याय के अलावा अधिशासी अधिकारी नगर पालिका मनोज दास, ललिता भटट, गोपाल सिह बोरा,बीसी भण्डारी, पंकज राय मौजूद थे।