Close

Multipurpose Camp at Kotabag Block

Publish Date : 31/05/2018
Multipurpose Camp at Kotabag
कोटाबाग/हल्द्वानी 29 मई 2018 (सूचना)-
क्षेत्रीय विधायक बंशीधर भगत की पहल पर कोटाबाग ब्लाक मुख्यालय में समाज कल्याण का बहुउद्देशीय शिविर आयोजित हुआ। बतौर मुख्य अतिथि सम्बोधित करते हुये क्षेत्रीय विधायक श्री भगत ने कहा कि समाज कल्याण विभाग द्वारा समाज के पिछड़े व कमजोर वर्गो के उत्थान के लिये 100 से भी अधिक कल्याणकारी योजनायें चलाई जा रही हैं। इसी कड़ी में राज्य के दिव्यांग व्यक्तियों को मदद देने के उद्देश्य से शासन द्वारा विशेष प्रयास किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि शिविरों के माध्यम से सरकार द्वारा जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ सीधे जनता तक पहुॅचाया जा रहा है। उन्होंने जनता से अपील की कि वे शिविरों मंे जानकारी प्राप्त कर योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ उठायें। उन्होंने कहा कि समय-समय पर दूरस्थ गांवों में जनता से जुड़ने हेतु जनपद स्तर, ब्लाक स्तर पर शिविरों का आयोजन किया जाय ताकि अधिक से अधिक जनता शिविरों के माध्यम से योजनाओं का लाभ उठा सके। मुख्य अतिथि द्वारा विकलांगों को प्रमाण पत्र व सहायता चैक वितरित किये गये।
शिविर में जानकारी देते हुये मुख्य विकास अधिकारी प्रकाश चन्द्र ने कहा कि जनकल्याणकारी योजनाओं को जन-जन तक पहुॅचाने के लिये ऐसे शिविर अति महत्वपूर्ण हैं, जनता योजनाओं की जानकारी लेकर लाभ उठायें। उन्होंने कहा कि दिव्यांग पेंशन के तहत निर्धन दिव्यांग व्यक्ति को 1000 रूपये प्रतिमाह पेंशन दी जाती है। इसके साथ ही खेती के काम के दौरान दिव्यांग हुये व्यक्ति को तीलू रौतेली पेंशन योजना के तहत 1000 रूपये प्रतिमाह की दर से पेंशन दी जाती है। उन्होंने बताया कि 18 वर्ष से कम उम्र के दिव्यांग बच्चों को भी समाज कल्साण विभाग की ओर से 700 रूपये प्रतिमाह भत्ता दिया जाता है। श्री चन्द्र ने बताया कि बौने व्यक्तियों को भी पेंशन के दायरे में लाया गया है जिसके तहत 21 वर्ष से बड़े व 4 फुट से कम ऊचाई वाले व्यक्तियों को हर माह 1000 रूपये प्रतिमाह की दर से पेंशन दी जाती है। उन्होंने मनरेगा कार्यो की भी विस्तृत जानकारी दी।
समाज कल्याण अधिकारी रवीन्द्र सिंह सामंत ने शिविर में समाज कल्याण द्वारा संचालित योजनाओं की जानकारी देते हुये बताया कि  निर्धन दिव्यांग व्यक्तियों को रोजमर्रा की जिंदगी में मदद देने के इरादे से कृत्रिम अंक खरीदने के लिये 3500 रूपये का अनुदान दिया जाता है। साथ ही दिव्यांग व्यक्तियों से शादी करने पर विवाहित जोड़े को 25000 रूपये की धनराशि दी जाती है। प्रदेश के गरीब दिव्यांग छात्र-छात्राओं के शैक्षिक उत्थान के लिये पहली कक्षा से स्नात्कोत्तर तक छात्रवृत्ति दी जाती है। उन्होंने बताया कि असहाय और गरीब दिव्यांगों को आत्मनिर्भर बनाने के लिये समाज कल्याण विभाग दिव्यांग कर्मशाला का आयोजन करता है, जहां दिव्यांगजनों को स्वालम्बी बनाये जाने हेतु प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित किये जाते हैं। साथ ही दुकान निर्माण में भी मदद दी जाती है। समाज कल्याण विभाग और आमजन द्वारा दिव्यांगों को उनके अधिकारों और विभाग की योजनाओं के प्रति जागरूक करने के लिये हल्द्वानी, नैनीताल के बेस चिकित्सालय में जिला दिव्यांग पुर्नवास केन्द्र संचालित किया जा रहा है। शिविर में स्वास्थ्य विभाग द्वारा 225 लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया व चार विकलांग प्रमाण पत्र जारी किये गये। समाज कल्याण द्वारा 9 वृद्धा पेंशन, 2 विकलांग प्रमाण पत्र फार्म वितरित किये गये। महिला कल्याण द्वारा 7 विधवा पेंशन प्रपत्र व 7 आधार जमा कराये गये, इसी तरह ग्राम्य विकास द्वारा 14 परिवार रजिस्टर नकल दी गयी, कृषि विभाग द्वारा 5 कृषि उपकरण दिये गये व आयुर्वेदिक विभाग द्वारा 113 लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण कर दवा वितरित की गयी। शिविर में जिला विकास अधिकारी रमा गोस्वामी, पंचायतराज अधिकारी एपी सिंह, खण्ड विकास अधिकारी तारा हयांकी, प्रोवेशन अधिकारी अंजना गुप्ता, पूर्व मेयर डा0जोगेन्द्र रौतेला, भुबन भट्ट, दीपा ढौंढियाल, विशन सिंह नगरकोटी, नरेन्द्र गजरौला, प्रभा पांडे,धीरज पांडे, सहित अनेक जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।