Close

Ambedkar Jayanti in District Nainital

Publish Date : 16/04/2018
Ambedkar_Jayanti
हल्द्वानी  14 अप्रैल  2018 (सूचना)-  संविधान निर्माता भारत रत्न डा0 भीमराव अम्बेडकर की 127वीं जयन्ती सामाजिक न्याय दिवस के रूप मे हर्षोउल्लास के साथ मनाई गयी। इस अवसर पर जनपद भर में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित कर डा0 अम्बेडकर को श्रद्वासुमन अर्पित किये गये तथा उनके जीवन एवं कृतित्व पर चर्चा की गई, साथ ही डा0 भीमराव अम्बेडकर की शोभा यात्राओ का भी आयोजन किया गया। कार्यक्रम में 41 पात्र लोंगो को अटल आवास अनुदान, विकलांग विवाह अनुदान तथा विकलांग कृतिम अंग अनुदान के लिए 7 लाख 57 हजार की धनराशि के चैक भी वितरित किये गये।
जिला प्रशासन द्वारा डा0 अम्बेडकर की जयन्ती के अवसर पर स्थानीय रामलीला मैदान में मुख्य कार्यक्रम आयोजित किया गया। सामाजिक न्याय दिवस के रूप  मे आयोजित इस भव्य कार्यक्रम का शुभारम्भ सांसद एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री भगत सिह कोश्यारी,अध्यक्ष जिला पंचायत सुमित्रा प्रसाद, जिलाधिकारी विनोद कुमार सुमन एवं मुख्य विकास अधिकारी प्रकाश चन्द्र द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया गया। इसके उपरान्त डा0 भीमराव अम्बेडकर की चित्र पर माल्यापर्ण किया गया।  इस अवसर पर विभिन्न महकमो ंद्वारा जनकल्याणकारी योजनाओ पर आधारित विकास प्रदर्शनी आयोजित की गई। प्रदर्शनी का शुभारम्भ रिबन काटकर सांसद श्री कोश्यारी द्वारा किया गया।
आयोजित कार्यक्रम मे जनसमुदाय को सम्बोधित करते हुये सांसद श्री कोश्यारी ने कहा कि भारतीय संविधान के निर्माता भारत रत्न डा0 भीमराव अम्बेडकर द्वारा बनाया गया भारतीय संविधान में हमारे सभी अधिकार एवं कर्तव्य सुरक्षित है। भारतीय संविधान को विश्व पटल पर भी पूरे आदर के साथ देखा एवं अनुरकण किया जाता है। उन्होने कहा कि डा0 अम्बेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को महू इंदौर मध्य प्रदेश के छोटे से गांव मे हुआ था। वह बाबा साहिब के नाम से मशहूर थे, उनके पास कानून के अलावा 32 अन्य डिग्रीयां भी थी। उन्होने मुम्बई, कोलंबिया, अमेरिका,लंदन विश्वविद्यालयो से शिक्षा हांसिल की थी। इसके साथ ही लन्दन स्कूल आफॅ इकोनामिक्स, यूके बर्लिन जर्मनी विश्विद्यालयो से भी शिक्षा हांसिल की थी। श्री कोश्यारी ने कहा कि भारत सरकार डा0 अम्बेडकर की परिकल्पना के आधार पर कार्य कर रही है। उज्जवला योजना के अन्तर्गत करोडो गरीब एवं अनुसूचित जाति की महिलाओ को निशुल्क गैस कनैक्शन उपलब्ध कराये गये है। जनधन योजना के अन्तर्गत गरीब 30 करोड लोगो के खाते खोले गये है। गरीब अनुसूचित जाति के 3.5 करोड परिवारों को सौभाग्य योजना में निशुल्क विद्युत कनैक्शन उपलब्ध कराये गये है। डा0 भीमराव अम्बेडकर को समर्पित भीम एप लागू किया गया है जिससे लोग कैशलैस लेनदेन कर रहे है। श्री कोश्यारी ने बताया कि 10 करोड लोगो को आयुष्मान येाजना के अन्तर्गत स्वास्थ्य बीमा की सुविधा का अम्बेडकर जयन्ती के अवसर पर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शुभारम्भ किया गया है। उन्होने कहा हमारी सरकार डा0 अम्बेडकर के चिन्तन के अनुसार गरीब एव अनुसूचित जाति के लोगो को समान अधिकार प्रदान करते हुये उन्हे विकास की धारा मे लाने के लिए शत्त प्रयत्नशील है।
अपने सम्बोधन मे अध्यक्ष जिला पंचायत श्रीमती सुमित्रा प्रसाद ने कहा कि डा0 अम्बेडकर मानवता एवं विज्ञानवाद तथा बौद्व धर्म के अनुयायी थे। उनकी मृत्यु 06 दिसम्बर 1956 को हुई थी, मरणोपरान्त भारत सरकार द्वारा 1990 मे उन्हें भारत रत्न उपाधि से समानित किया गया। उन्होने कहा कि डा0 अम्बेडकर ने गरीब महिलाओ के समग्र विकास के साथ ही उनके अधिकारो का भी बनाये गये संविधान में समावेश किया।
अपने सम्बोधन मे महापौर डा0 जोगेन्द्र पाल सिह रौतेला ने  कहा कि 14 अक्टूबर 1956 को नागपुर मे अम्बेडकर ने खुद और उनके समर्थको के लिए एक औपचारिक सार्वजनिक समारोह का आयोजन किया। अम्बेडकर ने बौद्व भिक्षु से पारम्परिक तरीके से तीन रत्न ग्रहण और पंचशील को अपनाते हुये बौद्व धर्म ग्रहण किया। अम्बेडकर को गौतम बुद्व की शिक्षाओ ने प्रभावित किया था। उन्होने संविधान का निर्माण करते हुये सोचा देश के आम गरीब व्यक्ति को बिना किसी जाति धर्म का भेद किये हुये उसे विकास की धारा में जोडा जाए।
अपने सम्बोधन में जिलाधिकारी विनोद कुमार सुमन ने कहा देश के हर नागरिक को विचारों को व्यक्त करने की आजादी, सामाजिक आर्थिक व राजनैतिक न्याय विचार, अभिव्यक्ति विश्वास, धर्म और उपासना की स्वतन्त्रता, प्रतिष्ठा और अवसर की समता प्राप्त करने का अधिकार दिया। उन्होने व्यक्ति की गरिमा और राष्ट्र की एकता और अखण्डता सुनिश्चित करने वाली बंधुता को बढाने के लिए अवसर देने का प्राविधान भी भारतीय संविधान मे किया है। श्री सुमन ने कहा कि जीवन में शिक्षा बहुत आवश्यक है डा0 अम्बेडकर ने भी शिक्षित होने की बात कही है, बिना  शिक्षा के हम अपने अधिकारो ंएव कर्तव्यो के प्रति सजग नही हो सकते, इसलिए हमे चाहिए कि हम शिक्षित हो और समाज को भी शिक्षित करें।
अपने सम्बोधन मे मुख्य विकास अधिकारी प्रकाश चन्द्र  ने कहा कि डा0 भीमराव अम्बेडकर का जीवन उनका दर्शन आज के भौतिकवादी युग मे भी अनुकरणीय है। सविधान निर्माता डा0 अम्बेडकर का स्मरण जनमानस के साथ बडे आदर के साथ किया जाता है। उन्होेने कहा कि अम्बेडकर जयन्ती को हम सामाजिक न्याय दिवस के रूप मे मना रहे है प्रदेश सरकार के निर्देशो के क्रम मे 14 अप्रेल से 5 मई तक जनपद मे ग्राम स्वराज अभियान का आयोजन किया गया है। डा0 भीमराव अम्बेडकर को श्रद्वासुमन अर्पित करते हुये मुख्य विकास अधिकारी प्रकाश चन्द्र ने कहा कि जनपद में 14 अप्रेल को सामाजिक न्याय दिवस रामलीला मैदान हल्द्वानी में, 18 अप्रेल को स्वच्छ भारत दिवस विकास भवन सभागार भीमताल में, 20 अप्रेल को उज्जवला दिवस रीठा निकट नथुवाखान रामगढ में, 24 अप्रेल को राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस विकास भवन सभागार भीमताल में, 28 अप्रेल को ग्राम स्वराज दिवस विकास भवन सभागार भीमताल में , 30 अप्रेल को आयुष्मान भारत दिवस बीडी पाण्डे चिकित्सालय नैनीताल में, 2 मई को किसान कल्याण दिवस विकास भवन सभागार में तथा 5 मई को आजीविका दिवस गणपति बैंकेट हाल विनायक भीमताल मे आयोजित किये गये है। यह सभी कार्यक्रम प्रातः 11 बजे से निर्धारित तिथियों व स्थानो पर हांेगे।
कार्यक्रम में विजय मनराल, शंकर कोरंगा, डा0 वारसी, धु्रव रौतेला, गोविन्द सिह ताकुली, प्रकाश हरर्बोला, चतुर सिह बोरा,जितेन्द्र मेहता, बद्री सिह, दीपाली कन्याल, पान सिह मेवाडी, अजय राजौर, हितेष पाण्डे,कृष्णानन्द काण्डपाल, नितिन कार्की, रेनु खुल्वे, बीके लाहोटी, आरसी बिन्जौला, हुकम सिह कुवर,सौरभ भटट, वन्दना पंत, दिनेश खुल्वे, जगदीश विष्ट के अलावा जिला विकास अधिकारी रमा गोस्वामी, परियोजना निदेशक बालकृष्ण, अपर मुख्य अधिकारी हिमाली जोशी पेटवाल के अलावा अन्य विभागीय अधिकारी एवं गणमान्य नागरिक मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन जिला प्रोबेशन अधिकारी अंजना गुप्ता द्वारा किया गया। कार्यक्रमं मे विभिन्न विभागो द्वारा सरकारी योजनाओ पर आधारित प्रदर्शनी का आयोजन किया गया वही सूचना विभाग के छोलिया कलाकारो द्वारा प्रस्तुती दी गई। सूचना विभाग द्वारा सरकारी की एक वर्ष की उपलब्धियों पर आधारित प्रचार साहित्य का वितरण भी किया गया।